बेगुनाह कोई नहीं, राज़ सबके होते हैं,
किसी के छुप जाते हैं, किसी के छप जाते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here