खुले आसमान के निचे बैठा हूँ,

कभी तो बरसात होगी,

एक बेवफा से प्यार किया हैं तो ज़िन्दगी कभी तो बर्बाद होगी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here